Fazilka Online News
News 24x7 Live

विद्यार्थियों को अध्यापक बनाने का वायदा कर एकेडमी संचालक रकम लेकर हुआ फुर्र

पीडि़त विद्यार्थियों ने सोई के नेतृत्व में खटखटाया पुलिस का दरवाजा
जिला पुलिस प्रमुख ने विद्यार्थियों को दिया मामले की जांच का भरोसा
फाजिल्का (सरहद केसरी ब्यूरो): अध्यापक बनकर शिक्षा का प्रकाश फैलाने की इच्छा रखने वाले सैंकड़ों नौजवानों की इच्छाओं पर एक एकेडमी संचालक ने न सिर्फ पानी फेर दिया बल्कि उनका लाखों रुपया लेकर उडऩ छू हो गया। बीएड व ईटीटी करने के इच्छुक यह विद्यार्थी अपने भविष्य के प्रति चिंतित नजर आ रहे हैं। यहां तक कि उक्त विद्यार्थियों के असली प्रमाण पत्र भी उक्त एकेडमी संचालक साथ ले गया है। निराशा की गर्त में डूबे यह विद्यार्थी अब अपनी रकम व प्रमाण पत्रों की वापसी के लिये पुलिस की शरण में पहुंच गया है। सूत्र बताते हैं कि इस सारे प्रकरण में लगभग 50 लाख का चूना लगा है। रकम लूटाकर निराश हुये इन विद्यार्थियों को स्टूडेंटस आर्गेनाइजेशन आफ इंडिया (सोई) ने सहारा दिया है। आज सोई के जिलाध्यक्ष नरेंद्रपाल सिंह सवना के नेतृत्व में निराश विद्यार्थियों ने जिला पुलिस प्रमुख से मुलाकात कर उन्हें स्थिति से अवगत करवाया। सोई जिलाध्यक्ष सवना ने बताया कि जिला पुलिस प्रमुख ने इस मामले की जांच डीएसपी को सौंपते हुये एक सप्ताह के भीतर परिणाम देने के निर्देश दिये हैं। प्रेम ङ्क्षसह, बगीचा ङ्क्षसह, बख्शीश ङ्क्षसह, हरदेव ङ्क्षसह, परमजीत ङ्क्षसह सहित अन्यों ने बताया कि एकेडमी संचालक राहुल शर्मा ने शिवपुरी रोड पर दफ्तर खोला हुआ था। उसने मुनादी करवाकर ईटीटी व बीएड नामी कालेजों में करवाने की सूचना दी थी। सूचना के आधार पर अपने सपनों को पूरा करने के लिये वह उनसे मिले। उस समय उनके दफ्तर में उनका साथी राज कुमार व एक कर्मचारी रूप चंद मौजूद थे। उन्होंने बताया कि कोर्स करने के इच्छुक विद्यार्थियों से 30 हजार रुपये व अनुसूचित जाति विद्यार्थियों से तीन नामी कालेजों में एडमीशन के नाम पर 15 हजार रुपये वसूले गये। तीनों कालेज नामी थे इसलिये उन्हें शक नहीं हुआ। लेकिन बार बार कहने पर भी जब विद्यार्थियों को संबंधित कालेजों में विजिट नहीं करवाई गई तो उन्हें शक हुआ। विद्यार्थियों ने जमा होकर जब दबाव बनाया तो उन्हें 10 जनवरी को कालेजों की विजिट करवाने की तारीख दी गई। जब वह निश्चित तारीख पर एकेडमी में पहुंचे तो राहुल शर्मा पांच मिनट में लौटने का कहकर चला गया और वापिस नहीं लौटा। जब वह उनके सहायक राज कुमार के साथ अबोहर के कालेज में गये तो उनके समक्ष इस सारी ठगी का खुलासा हो गया। उन्होंने जिला पुलिस प्रमुख से अपील करते कहा कि उन जैसे इलाके के लगभग 500 युवक हैं जो इस ठगी का शिकार हुये हैं। उन्होंने शीघ्र आरोपी को गिरफ्तार करने व उनकी रकम व कागजात वापिस दिलाने की मांग की है। जिला पुलिस प्रमुख ने उन्हें शीघ्र कार्रवाई का आश्वासन दिया और मामले की जांच के लिये डीएसपी को निर्देश दिये।

Leave A Reply

Your email address will not be published.